Inter-Process Communication (IPC) क्या है ?

What is Inter-Process Communication?

Inter-process communication को संक्षिप्त में IPC के नाम से जाना जाता है। IPC एक programming interface का समूह होता है। इसका कार्य अलग-अलग programmer को operating system के अन्तर्गत execute हो रहे विभिन्न program के बीच processing का समन्वय बनाने की सुविधा प्रदान करना होता है।

इसके द्वारा एक ही समय में अनेक उपयोगकर्ता के आग्रह को लेने का कार्य किया जाता है। यह communication protocol का उपयोग करके अनेक processing को आपस में बाँटने का कार्य करता है। सामान्यतः जिन application के द्वारा Inter-process communication का उपयोग किया जाता है उन्हें client-server application कहते हैं। जिससे जब client के द्वारा कोई request किया जाता है तो उसका Server जवाब देता है। 

inter-process communication क्या है ?

उपरोक्त चित्र में inter-process communication जब दो अलग-अलग network के बीच होता है तो वह किस प्रकार response करता है इसे समझाने का प्रयास किया गया है। Inter-process communication में निम्न तत्व सम्मिलित होते हैं:

i) Semaphore:

इसमें अनेक processing होते हैं जो इस प्रकार कार्य करते हैं जिससे लगे कि resources को आपस में share कर रहे हैं।

ii) Pipe:

इसके द्वारा एक समय में केवल एक ही अक्षर को पढ़ा या लिखा जाता है। इसे pipe इसलिए कहा जाता है क्योंकि जिस प्रकार pipe में पानी का प्रवाह होता है उसी प्रकार यह input और output के बीच processes data के प्रवाह का निर्माण करता है।

iii) Named Pipe:

जब pipe में और सुधार करके उसे नया रूप दे दिया जाता है और उसमें एक अक्षर ही नहीं बल्कि पूरी file का प्रवाह किया जाता है तो उसे named pipe कहते हैं। इसमें inter process communication के लिए एक से अधिक processing करता है और file को पढ़ा एवं लिखा जा सकता है।

iv) Socket: 

यह communication के लिए निर्धारित एक नियम होता है जिसमें network से data प्रवाह किया जाता है। इसमें एक ही computer को एक से दूसरे computer के बीच data का प्रवाह होता है जिसके लिए network interface परिभाषित किया जाता है। 

v) Message Queue:

किया जाता है। इसे सामान्यतः operating system के द्वारा तैयार यह भी socket की तरह communication में उपयोग कर इसे इस प्रकार निर्देश दिया जाता है कि बिना एक दूसरे से जुड़े message के लाईन को पढ़ने एवं लिखने का कार्य कर सके।

vi) Shared memory:

जब एक से अधिक processing होती है तो वह आपको यह सुविधा प्रदान करती है कि आप एक ही memory का उपयोग कर सकते हैं। इसमें एक से अधिक प्रक्रियाओं का दूसरे से संचार करने के लिए एक shared buffered तैयार किया जाता है।

PDF Notes Operating System PDF Notes Download Download PDF

Post a Comment

0 Comments

Youtube Channel Image
Rkonline | Learn Programming Language Subscribe To watch more Blogging Tutorials
Subscribe