Introduction To WEB - जानिए Web क्या है ? Web का परिचय, वेब का History हिंदी में (BCA-III) Web Technology- unit-1 Full Notes

Introduction to web:

जब लाखो,करोड़ो लोग  एक-दूसरे से जुड़कर जानकारियों का स्थानांतरण करते है तो उसे web कहते है। Web internet (inter connected network) का आधार है। Internet पर जानकारियों का संग्रहण web-server पर होता है। जब हमें (client) को कोई जानकारी प्राप्त करना होता है तो हम web-server को request भेजते हैं। जिस web-server के लिए request होता है उसके प्राप्त हो जाने की स्थिति में वह client को response भेजता है। इसके कार्य को निम्न diagram से समझ सकते है।

Introduction to www web page in hindi


चुंकि web एवं internet एक ही है केवल शब्दों का अंतर हैं इसलिए आप internet के विषय में जानते है:

 

Internet क्या है ?

 

आप आने computer system से पूरी दुनिया की जानकारी प्राप्त कर सकतें हैं या पूरी दुनिया के computer system से जुड़ सकते हैं, इसका श्रेय internet को जाता है। Internet एक विश्वस्तरीय interconnected network होता है जिसके द्वारा standard protocol suite (TCP/IP) का उपयोग किया जाता है। इससे लाखों-करोड़ों उपयोगकर्ता एक समय में कार्य कर सकते हैं। वर्तमान में सभी संस्थाएं, कार्यालय चाहे वह सरकारी हो या प्रायवेट बिना internet के उनका कार्य पूर्ण नहीं हो सकता।

Internet का कार्य data को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाना होता है। इसमें hypertext का उपयोग जानकारियों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजने के लिए किया जाता है। वर्तमान में email एक ऐसा service है जिससे लोग आसानी से अपने पत्र को एक स्थान से दूसरे स्थान तक भेज सकते हैं इसके अतिरिक्त वर्तमान में online form, online banking इत्यादि सुविधा से लोग तुरंत ही किसी job का form भर सकते हैं या अपने खातों के विषय में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। Internet का आरंभ सन् 1960 के लगभग हुआ संचार स्थापित किया। अमेरिकी सरकार ने बिना किसी परेशानी के computer networks के बिच संचार स्थापित किया

History Of Internet (WEB) (इन्टरनेट का इतिहास ) :

History of Internet:

इसका प्रादुर्भाव 1960 के दशक में हुआ जब packet switching network विकास हुआ। ARPANET, CYCLADES, NPL in the UK, Merit Network, Tymnel और Telnet ने 1960 से 1970 के दशक में विभिन्न protocol का निर्माण किया। ARPANET ने internetworking के लिए एक विशेष protocol का विकास किया जिसमें दो network को एक दूसरे से जोड़कर कार्य किया। Computers का पहला network सन् 1962 से प्रारंभ हुआ। इसी समय Defense Advance Research Agency (DARPA) ने इसके विकास के क्षेत्र में विशेष कार्य किया। MIT के Leonard Kleinrock और उसके बाद UCLA के द्वारा Internet के packet switching के सिद्धांत को खोजा जिसे Internet के लिए आधार स्वरूप विकसित किया गया था। Roberts ने DARPA को 1966 में बदल दिया और ARPANET के लिए नया plan तैयार किया। इसी सोच और इसी प्रकार के अन्य गुमनाम व्यक्तियों को internet का संस्थापक कहा जा सकता है।

Uses of Internet:

Internet जिसका अर्थ Inter Connected Network होता है । Internet अलग-अलग जगहों पर लगे computer  में communications करके message तथा अन्य जानकारियों को स्थानांतरित करने का एक उपयोगी माध्यम है। Internet के द्वार किसी भी प्रकार के data, चाहे वह text के रूप में हो या photo के किसी भी कोने में भेजने का कार्य कर सकते हैं। Internet का उपयोग करने के लिए telephone line, Modem and कुछ software जैसे TCP/IP इत्यादि की आवश्यकता होती है।

Definition of Internet (इन्टरनेट की परिभाषा ):

Internet एक global computer network हैं। जिसका कार्य पूरी दुनिया को जोड़कर रखना होता है । 31 December 2011 के एक रिपोर्ट के अनुसार लगभग 2,26,72,33,742 internet उपयोगकर्ता पूरी दुनिया में है । Internet का उपयोग किसी information को एक computer से दूसरे computer या एक user से दूसरे user के पास transfer करने के लिए किया जाता है। यह एक media की तरह ही होता है, जिसमें किसी जानकारियों को बिना किसी विलंब के exchange करना होता है।

Internet Owner (इन्टरनेट का मालिक कौन है ?):

वास्तव में Internet का कोई मालिक नहीं होता। इसे कई Internet organization के द्वारा नियंत्रित किया जाता है। इन organization के द्वारा विभिन्न प्रकार के नियम बनाये गये हैं और इन्हीं नियम के आधार पर internet सही प्रकार से कार्य करता है। ये organization निम्न है जो internet के standards को बनाये रखने एवं उसे Control करने का कार्य करते हैं:

a) Internet Society (ISOC):

इसकी स्थापना सन् 1992 में हुई थी। इसका कार्यालय Geneva, Switzerland एवं USA के Washington के नजदीक है। यह सदस्य बनाकर कार्य करता है वर्तमान में इसके अन्तर्गत लगभग 130 संस्थाएं एवं 55 हजार स्वतंत्र सदस्य कार्य कर रहे हैं। इसका मुख्य कार्य internet से संबन्धित मानक, शिक्षा एवं नियम के क्षेत्र में कार्य करना है। इसके द्वारा Internet के विभिन्न social, political, technical issue को नियंत्रित किया जाता है।

b) Internet Engineering Task Force (IETF):

इस संस्था का गठन 16 January 1986 को हुआ। इसका मुख्य कार्य internet के standard को बनाये रखना है। W3C एवं ISO/IEC के मानक नियमों के अनुसार कार्य करना और Internet Protocol (TCP/IP) के साथ सामंजस्य बनाये रखना इत्यादि इसके कार्य है।

c) Internet Engineering Steering Group (IESG):

यह IETF का ही उप संस्था है इस संस्था की जिम्मेदारी Internet को तकनीकी तरीके से manage करना होता है। इसके द्वारा कुछ नियम को लगाया जाता है। जिसका उपयोग करके Internet के technical standard को manage करने में किया जाता है ।

d) Internet Assigned Number Authority (IANA):

इसे सन् 1988 में बनाया गया था यह ICANN नामक संस्था का एक शाखा है जो internet को सही प्रकार से चलाने के लिए जिम्मेदार होता है।

i) Domain Names:

IANA का कार्य DNS Root को manage करना तथा .int और .arpa domain के संसाधन का उपयोग करना होता है।

ii) Number Resources:

IANA, IP और AS number, key word और कुछ दूसरे parameter का उपयोग करता है। इस प्रकार के number को assign करने के लिए IANA का उपयोग किया जाता है।

iii) Protocol Assignment:

IANA, Internet Protocol number system को manage करने का कार्य IANA के द्वारा मानक नियमों के पालन के लिए किया जाता है।

e) Internet Architecture Board (IAB):

यह Internet Society (ISOC) द्वारा Internet के तकनीकी एवं engineering विकास के लिए बनाया गया एक समिति है। इसका कार्य Internet society को विभिन्न प्रकार से सलाह देना होता है। इसके द्वारा Internet के architecture और protocol को निर्धारित किया जाता है और इसका दूसरा उपयोग किसी message को transfer करना होता है। ISB का दूसरा कार्य Internet engineering steering group (IESG) को नियुक्त करना होता है।

 


Post a Comment

0 Comments

Youtube Channel Image
Rkonline | Learn Programming Language Subscribe To watch more Blogging Tutorials
Subscribe